‘एमपी अजब है’ मध्य प्रदेश टूरिज्म की ये पंच लाइन सच होती नजर आ रही है. हुआ ये कि भिण्ड के एक पैथोलॉजी लैब ने मलेरिया की जांच कराने आए पुरुष को गर्भवती बता दिया. इस घटना के बाद इलाके में हड़कंप मच गया है. मौके पर पहुंचे स्वास्थ्य विभाग के अधिकारियों ने तीन लैब को सील कर मामले की जांच शुरू कर दी है. कार्रवाई के बाद पैथोलॉजी संचालक और डॉक्टर क्लीनिक छोड़कर फरार बताए जा रहे हैं.

दरअसल फ़ूप का रहने बाला सुरेश जाटव तीन माह से बीमार चल रहा था. सुरेश खुद को दिखाने कस्बे में स्थित डॉ. वीके वर्मा की क्लिनिक पर पहुंचा. जहां उसे मलेरिया के टेस्ट के लिए श्याम पैथोलॉजी भेज दिया. सुरेश पैथोलॉजी पर पहुंचा जहां उसका ब्लड सैम्पल लिया. जांच के बाद पैथोलॉजी संचालक ने सुरेश को रिपोर्ट थमा दी. रिपोर्ट डॉक्टर को दिखाने के बाद उसके होश उड़ गए. क्यों कि उस रिपोर्ट में उसे प्रेग्नेंट बता दिया. इस घटना के बाद डॉक्टर अपना क्लिनिक बंद कर मौके से फरार हो गया.

वहीं मामले की सूचना मिलते ही स्वास्थ्य विभाग की टीम मौके पर पहुंच गई. टीम ने मामले को जांच लेकर बगैर रजिस्टेशन के संचालित तीन पैथोलॉजी को सील कर दिया. स्वास्थ्य विभाग के अधिकारी का कहना है कि प्राइवेट डॉक्टर वीके वर्मा नोटिस देने के बाद कार्रवाई की जाएगी. वही पीड़ित का कहना है कि पैथोलॉजी की रिपोर्ट में गर्भवती बताने के बाद पैथोलॉजी संचालक आनन-फानन में घर आया और रिपोर्ट लेकर भाग गया. पीड़ित के भाई का कहना है कि पैथोलॉजी की गलत रिपोर्ट देकर मरीजों के स्वास्थ्य से खिलवाड़ किया जा रहा है. उन्होंने ऐसे पैथोलॉजी संचालक के खिलाफ कार्रवाई की मांग की है.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here